HomeBitcoin

Blockchain Technology Kya Hai

Blockchain Technology Kya Hai
Like Tweet Pin it Share Share Email

Blockchain peer-to-peer टेक्नोलॉजी पर काम करता है जो की users को फ़ास्ट सुरक्षितऔर पारदर्शी तरीके से internet की करेंसी को ट्रान्सफर करता है और यह internet करेंसी कोई भी हो सकती है bitcoin litecoin और बहुत सारी .

तो आईये जानते है Blockchain Technology Kya Hai (Blockchain Info Hindi)?

Blockchain Technology

blockchain अभी हाल के समय में बहुत तेज़ी से बढ़ता हुआ विषय है और काफी जटिल भी है blockchain technology ने digital transactions का तरीका ही बदल दिया है और साथ ही साथ कई बड़ी बड़ी industries के daily business पर भी इसका प्रभाव साफ देखा जा सकता है

अभी हाल ही में २ शब्द काफी प्रचलन में आए है पहला तो है bitcoin और दूसरा blockchain ये दुसरे एक से संबधित है परन्तु दोनों की कार्य प्रणाली एक दुसरे से बिलकुल भिन्न है

Bitcoin एक से एक internet पर आधारित एक करेंसी है जिसका वास्तविक कोई वजूद नही है और सभी  cryptocurrency में सबसे ज्यादा मशहूर जो की एक विकेन्द्रित करेंसी है जो यूजर को money exchange में मदद करता है बिना किसी thrid पार्टी के. सभी bitcoin transaction का record एक पब्लिक ledger में रहता है जिससे की सिस्टम में ज्यादा पारदर्शिता तथा विश्वशनीय और फ्रौड होने के chance कम रहे और इस सब के लिए एक बिचोलिये की जरूरत पड़ती है जो सब transaction को अच्छी तरह verify करते है और blockchain technology यही काम आती है

blockchain का सबसे main benefits है “transparency” जो भी peer-to-peer transactions होता है वह public ledger में record हो जाता है जब भी कोई व्यक्ति bitcoin को transfer करता है तो उस deal की details उस public ledger में जाती है जिसमे source, destination and date/timestamp  रहता है is सब इनफार्मेशन को block कहते है

transactions वैध्यता   collective computing power miners  द्वारा जांची तथा कन्फर्म की जाती है की transaction वालिद है या नही. miners के पास काफी शक्ति शाली computer होते    है जिससे bitcoin transaction को verify करते है फलस्वरूप miners को कुछ हिस्सा मिलता है

miners transaction का सारा डाटा hashing algorithm से चेक करते है यह hashing algorithm भारी से भारी complex computer math को सोल्व करते है और एक बार एक block सोल्व होने पर और transactions verified होने पर Rewards के तोर पर bitcoin का कुछ हिस्सा उन सभी computer या miners में बाटा जाता है जिन्होंने block को सोल्व करने में हिस्सा लिया था. और verified block public ledger में record हो जाता है जहा से कोई भी अन्य miners देखा सकता है.

और यह public ledger virtually हर जगह रहती है जिसके साथ कोई छेड़छाड़ नही कर सकता. अगर मन लीजिये कोई छेड़छाड़ करता भी है तो पूरा सिस्टम को एक साथ ही छेड़ना पड़ेगा जो की एक असम्भव काम है.

Blockchain की क्या जरूरत है

internet पर Peer-to-peer connectivity की मदद से हम digital assets को एक से दूसरी जगह easily transfer कर सकते है आईये एक उदाहरण से समझता हु की blockchain की जरूरत क्यों पड़ी

मानलीजिये आपके  पास एक bitcoin  और आप एक टीवी खरीदना चाहते है किसी ऐसे स्टोर से जो cryptocurrency accept करता हो परन्तु अपने वही bitcoin अपने किसी दोस्त से  उधार लिया था पिछले महीने  अब बताइए क्या होगा? इसी प्रकार के फ्रौड को रोकने के लिए ही Blockchain की जरूरत पड़ी e can already send these bits and bytes to each other, what’s the point of using a blockchain?

blockchain technology lets us truly transfer our digital assets, money from point A to point B taking comfort in the fact that there are reliable checks and balances in place.

यह भी पढ़े 

Other Uses for Blockchain

वैसे तो blockchain का काफी use बित्कोइन में होता है मगर इसके अलावा भी बहुत सी ऐसी जगह है जहा blockchain का use करते है

  • Executing contracts (कॉन्ट्रैक्ट स्थापित करने में )
  • Safely buying and selling intellectual property (आपकी डिजिटल एसेट्स की खरीद फरोक्त )
  • Medical information (मेडिकल में )
  • Elections is incorruptible (वोटिंग मशीन में इसका उपयोग करते है )

अगर आपको इससे जयादा और जानकारी चाहिए तो आप https://blockchain.info/ पर जाकर देख सकते है

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *